Indi Hunt

Saturday, August 24, 2019

SBI TDR और SBI SDTR क्या है

August 24, 2019 0
SBI TDR और SBI SDTR क्या है

SBI TDR और SBI SDTR क्या है और यह दोनों में अंतर क्या है इस post में हम इसी के बारे में पूरा चर्चा करेंगे और इसकी पूरी जानकारी आपसे शेयर करेंगे।
TDR और SDTR भारतीय रिज़र्व बैंक (State Bank of India) द्वारा चलाई गई एक Fixed Deposite scheme है। इसमे आपको invest किए गए पैसों से ज्यादा पैसा मिलता है।

SBI TDR AND SBI SDTR


What is Fixed Deposite (Fixed Deposite क्या है)


Fixed Deposite प्रत्येक Bank की एक scheme होती है जिसमे आपको एक निश्चित धन राशि को एक निश्चित तिथि के अंदर समय-समय पर जमा करना पड़ता है और उस निश्चित तिथि के पहले यदि आप अपना Fixed Deposite scheme को बंद करते है तो आपको कुछ कम धन राशि मिलती है। यदि आप Fixed Deposite scheme में पूर्णत धन राशि उस निर्धारिय तिथि पर जमा कर देते है तो आपको ब्याज के साथ अधिक धन राशि प्राप्त होगी।

What is TDR (TDR क्या है)


TDR का full form Term Deposit है। इस प्रक्रिया में आपको एक निश्चित ammount को fixed deposite करना पड़ता है। इसमें आपको interest monthly, Quartlty या फिर साल में मिलेगा।

TDR प्रक्रिया में SBI आपको हर तीन महीने में आपके interest को आपके FD Account में जोड़ देता है। Sate Bank Of India ने TDR Fixed Deposit का Minimum कार्यकाल 7 Days और Maximum कार्यकाल 3650 Days का है।

What is SDTR (SDTR क्या है)


SDTR का full form Special Term Deposit है और इस Fixed Deposite प्रक्रिया में आपको Maturity के समय ही पूरा रकम और ब्याज जोड़ कर दिया जाता है यानि कि FD का पूरा समय समाप्त होने के बाद ही आपकी धन राशि को ब्याज के साथ जोड़ कर दिया जाता है।

State Bank of India में SDTR के लिए न्यूनतम कार्यकाल 180 दिन है और अधिकतम कार्यकाल 3650 दिन है।

Investment TDR and SDTR (TDR और SDTR में किसमें निवेश करना सही है)


TDR में आपको प्रत्येक 3 माह के अंदर ब्याज मिलता है और उस ब्याज का आप अपने दैनिक कार्यो में उपयोग भी कर सकते है।

SDTR एक निश्चित समय के लिए होता है इंसमे आपको तब तक ब्याज प्राप्त नही होगा जब तक आपके Fixed Deposite की समय सीमा समाप्त नही हो जाती है।

Conclusion


आपको मैंने यहाँ पर SBI TDR और SBI SDTR की जानकारी दी है। आशा करता हु कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसन्द आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।

Friday, August 23, 2019

Stock Rom और Custom Rom क्या है

August 23, 2019 0
Stock Rom और Custom Rom क्या है
आप सबका मेरे ब्लॉग पर स्वागत है आज मैं आप सबसे Android Smartphone के stock rom क्या है और custom rom क्या है इसके बारे में चर्चा करेंगे और जानेंगे कि stock rom aur custom rom में different क्या है।

Stock Rom And Custom Rom Details


What is Stock Rom (Stock Rom क्या है)


Android Smartphone में एक os software जैसे- Marshmallow,Nougat,Oreo etc होते है इन software को ही stock rom कहते है। इन stock rom को google के developers द्वारा बनाया जाता है और smartphone companies द्वारा market में बेचे जाने के लिए तैयार smartphone में software install करते है।

Google Developers द्वारा बनाए जाने वाले stock rom में बहुत ही कम error आते है और यदि error आह भी जाए तो उन Os Software में सुधार करके नया version launch करते है और उसके कुछ दिनों के अंदर आपके android smartphone में software update करने का notification आता है।

यह update आपके smartphone company द्वारा आपके smartohone के model number पर भेजा जाता है। यदि आपके smartphone में software update का कोई option आए तो उसे तुरन्त ही update करले इससे आपके smartphone में जो भी problem आह रहे होंगे वह सब सही हो जाएंगे और आपके smartphone में कोई problem नहीं भी आह रही है तब भी software update करले इससे आपके smatphone में कुछ new features add हो जाते है और आपका Android Smartphone पहले से अच्छा performance देगा।

What is Custom Rom (Custom Rom क्या है)


Custom Rom भी android smartphone का एक तरह का os software होता है पर इसे third party द्वारा बनाया जाता है यानी इसे Google द्वारा officialy नही बनाया जाता है। इन software को बनाने वाले Developers होते है। यह software उन smartphone के लिए बनाया जाता है जिनमे smartphone company द्वारा update नही आते है और कुछ smartphone के model के अनुसार उनको अब update नही किया जा सकता है।

Different between Stock Rom and Custom Rom (Stock Rom और Custom Rom में क्या अंतर है)



  • Stock Rom को google के developer developers द्वारा बनाया जाता है जबकि custom rom को third party developers के द्वारा बनाया जाता है।


  • Stock Rom install करने पर smartphone की warranty बनी रहती है जबकि custom rom install करने पर smartophone की warranty समाप्त हो जाती है।


  • Stock Rom को install करने के लिए smartphone को root नही करना पड़ता है क्योंकि इसके update का notification हमारे smartphone पर आता है जबकि cutom rom को install करने के लिए smartphone को root करना जरूरी है क्योंकि इसमे third party के द्वारा software install किया जाता है।


  • Stock Rom पूरी तरह से secure है क्योंकि इसको google के developers द्वारा बनाया जाता है जबकि custom rom को third party developers बनाते है इसलिए यह पूरी तरह से secure नही होता है।


  • Stock Rom में error आने की संभावना बहुत ही काम होती है और यदि कोई error आह भी जाए तो google के os update से इसमें सुधार किया जाता है जबकि custom rom में error आने की संभावना बहुत ही ज्यादा होती हैं और error आने के बाद इसे ठीक नही किया जा सकता है।

Conclusion


आपको हमारे इस post को पढ़ कर अच्छी तरह समझ आह गया होगा Android Stock Rom और Android Custom Rom के बारे में पूरी जानकारी और यदि आपको यह post पसंद आए तो social media पर शेयर जरूर करे।

Wednesday, August 21, 2019

How to Unblock Website url on Facebook

August 21, 2019 0
How to Unblock Website url on Facebook
Facebook Se Website Ka Url Unblock Kare Facebook Se Website Ka Url Block Na Hone Ka Permanently Solution Ki Jankari Apko Iss Post Mein Mil Jayegi.

How to Unblock Website url on Facebook


Facebook पर हर कोई अपने Website/Blog का url को share करके अच्छा traffic लाना चाहता है पर इसी बीच facebook हमारे blog के url को Block कर देता है जिससे हम अपने website का url facebook पर post नही कर पाते हैं जिससे हमारे ब्लॉग पर facebook से कोई traffic नही आता है।

कुछ लोगो के तो 1m likes वाले facebook fan page होते है जिससे वह अपने ब्लॉग पर बहुत ज्यादा ही traffic अपने ब्लॉग पर लाते है पर Facebook जब किसी भी ब्लॉग का url block करता है तो समझ जाएं कि अब facebook से अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक नही ला सकते है। मैं आपको यहा पर बतयूंगा कि किस तरह से facebook url को unblock करे और unblock होने से कैसे बचाये।

Why Facebook Block our Website url (Facebook हमारे ब्लॉग के url को क्यों block करता है)


जब हम अपने ब्लॉग के url को बहुत सारे Facebook Group और अपने Facebook Fan Page पर share करते है तो Facebook यह analyze करता है कि हम अपने ब्लॉग के url को हर जगह शेयर कर रहे है इसलिए यह तुरंत हमे Spam Notification भेजता है और कुछ देर में हमारे blog के url को block कर देता है।

इसका एक और कारण भी है Facebook तब ही हमारे blog के url को block करता है जब हमारे url sharing वाले post पर बहुत सारे user report करते है।

How to Unblock Website url on Facebook (Facebook द्वारा Block किए गए Website/Blog के url को Unblock कैसे करे)



  • सबसे पहले मेरे दिए गए link पर Click Here

Request Review For Facebook On Unblock Your Website Url



  • अब आपके सामने एक new page open होगा जैसा कि आप ऊपर में दिए गए Photo पर देख सकते है।
  • अब उस new page में आपके सामने एक Blank Box Show हो रहा होगा वहाँ पर आपको English में आपको appeal करना होगा कि आपका blog का url unblock करे। यदि आपको english में problem आ रहा है तो मैं यहाँ पर आपको english में short appeal लिख देता हूं बस आपको वहाँ पर www.indihunt.com को हटा कर अपने blog का url डालना है और उस short appeal को copy करके उस Blank Box में Paste करना होगा।

    This Is My Own Website, This Is Not Spam
    Please Activate My Website , Many Times We 
    Review But Not Active My Webiste Many Many 
    Problems On Sharing Link Please Active 
    Immeditly Thank U Sir – Website Link – 
    (https://www.indihunt.com)

  • अब आपको send button पर click करना है आपकी appeal facebook team के पास पहुँच जायगी और कुछ समय बाद आपके Blog का url facebook से unblock हो जायगा। यदि आपके blog का url facebok unblock नही कर रहा है तो आप अपने facebook के 10 friends को कहे कि आपने जो facebook को link unblock करने को appeal की आपके 10 दोस्त भी वही करे जिससे आपके Blog का url Facebook Unblock कर दे।

Facebook से Blog का Url Unblock करने के बाद कुछ सावधानियां और Facebook में Blog का Url Permanently Unblock रखने का Solution


जैसे ही आपके ब्लॉग का url facebook open करे आप उसी वक़्त से अपने ब्लॉग post का लिंक बिल्कुल भी शेयर ना करे और ज्यादा शेयर ना करे अगर आपका बार-बार facebook द्वारा आपके ब्लॉग का url ब्लॉक किया जा रहा है तो यह method आपके ब्लॉग का url को हर बार unblock नही कर पाएगा। इसके लिए आपको अपने facebook fan page पर जिस blog का url post किए है उस post पर थोड़े पैसे खर्च करके Post को boost करना होगा ताकि आपके Blog का url facebook कभी-भी Block ना कर सके

Conclusion


आपको मैंने यहाँ पर Facebook से Website का url Unblock करने का तरीका बताया है। आशा करता हु आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।
यदि यह जानकारी पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।


यदि आपको यह जानकारी पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।

Tuesday, August 20, 2019

Autoptimize Plugin Complete Settings Hindi

August 20, 2019 0
Autoptimize Plugin Complete Settings Hindi
Autoptimize Plugin के use से आप अपने website के css और javascript को optimize करके website के speed को बहुत ही आसानी से increase कर सकते है।

Autoptimize Plugin Complete Settings Hindi


Autoptimize Plugin का काम ही है कि वह आपके website के css और javascript files को compress करके website की performance को सुधारना और साथ ही यह HTML files को optimize करके website की speed को increase करना है।

How to install Autoptimize Plugin (Autoptimize Plugin को Install कैसे करे)


सबसे पहले WordPress Dashboard open करे।Plugin section में जाकर Add New PluginPlugin में Autoptimize Search करे और Autoptimize plugin को install करके active करना है और setting में जाकर autoptimize को open कर ले।

Autoptimize Plugin Setting Hindi


Autoptimize Plugin Complete Settings Hindi


Autoptimize plugin में आपको दो Settings देखने को मिलेंगे Basic और Advanced setting आपको इसमे से Advance Setting को select करना है।

HTML Options


Autoptimize Plugin HTML Options



  • Optimize HTML Code – Enable करे

  • Keep HTML Comments – Enable करे


Javascript Options


Autoptimize Plugin Javascript Option


आपके website पर जो भी themes use होता है उसपर javascript codes use होता है जिससे website की loadtime increase जाती है जिसको minimize करके website की loadtime को decrease करना होता है।


  • Optimize Javascript Code Enable करे

  • Aggregate JS Files – Enable करे


CSS Options

Autoptimize Plugin Css Option



  • Optimize Css Code – Enable करे

  • Aggregate Css Files – Enable करे

  • Also Aggregate Inline Css – Enable करे


CDN Options

Autoptimize Plugin Cdn Option



  • आपको यहा पर आपके Cdn url add करना है यदि आप Cdn का paid plan use करते है तब ही आपको Cdn url मिलेगा Free Plan में Cdn url नहीं मिलता है। आप Cdn Base url को Blank ही छोड़ दे।


Misc Options


Autoptimize Plugin Misc Options



  • Save aggregated script/css as static files – Enable करे

  • Also optimize for loged in users –Enable करे

  • अब save changes पर click कर दे।


Extra Auto-Optimizations

Autoptimize Plugin Extra Auto Optimisations



  • Extra पर click करे

  • Google Fonts – Remove Google Fonts पर क्लिक करे

  • Remove Emojis – Enable करे

  • Remove quesry strings from static resources – Enable करे

  • Save Changes पर click करे।


Conclusion


अब आपके website पर Autoptimize Plugin का full setup हो गया है और आपके website की speed भी increase हो गईं होगी। आशा करता हु कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

आपको यह जानकारी पसंद आए तो शेयर जरूर करे।

Sunday, August 18, 2019

Wp Fastest Cache Compete Setup Hindi

August 18, 2019 0
Wp Fastest Cache Compete Setup Hindi
Wp Fastest Cache सभी cache plugins से बेहतर और इसका setup करना बहुत ही easy है। अपने बहुत-सारे cache plugin जिसमे W3 Total Cache और Wp Super Cache का use तो किया ही होगा और आपको तो पता ही होगा कि इनका setup करना बहुत कठिन है खासतौर पर W3 Total Cache का setup करने में बहुत दिक्कत आता हैं।


Wp Fastest Cache Compete Setup Hindi


कुछ समय पहले मैं भी Wp Super Cache का use करता था अपने website पर लेकिन जब से Wp Fastest Cache का use कर रहा हु तब से website की speed थोड़ी-सी बढ़ गई है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह कुछ minutes पर ही cache delete करते रहता है और जब आपके website पर visitors आएंगे तब Wp Fastest Cache Plugin आपके website के cache को automatic delete करते रहता है जिससे आपका website down नही होगा।

Wp Fastest Cache Plugin को Install कैसे करे


सबसे पहले WordPress Dashboard open करे।Plugin section में जाकर Add New PluginPlugin में Wp Fastest Cache Search करे और Wp Fastest Cache plugin को install करके active करना है और setting में जाकर Wp Fastest Cache को open कर ले।

WP Fastest Cache Settings का full setup


WP Fastest Cache Plugins का setup करना बहुत ही आसान है। आप मेरे बताये गए steps को follow करके easily setup करले।

Wp Fastest Cache Settings


  • Cache System – Enable।

  • Preload – option को enable करें और popup में सभी options (Homepage, post,categories, tags etc..) को check करें। लेकिन एक बात का ध्यान रखें यदि आप shared hosting का उपयोग कर रहे है तो इसे 4-6 pages per minute और VPS के लिए 10-12 pages per minute set करें।

  • Logged-in Users – यदि आप Single Author website चला रहे है तो cached enable कर दें और यदि आप Multi-author website चला रहे है, तो cached disable कर दें।

  • Mobile – enable करें।

  • Mobile Theme – यह एक premium feature है।

  • New Post – इसे enable करें और Pop-up box में “Clear all Cache” को select करके ok पर क्लिक करें।

  • Update Post – option को enable करें और और “clear cache of post/page” को select करके ok button पर क्लिक करें।

  • Minify HTML – अपनी web page size को decrease करने के लिए इसे enable जरूर करें इसे आपकी site performance भी बेहतर होगी।

  • Minify HTML Plus – यह एक premium feature है।

  • Minify CSS – यह आपके साईट से CSS file को decrease करता है और आपके site performance तथा loading speed को improve करता है।

  • Minify CSS Plus – premium feature

  • Combine CSS – यह javascript और CSS file को combine करके HTTP requests को कम करता है।

  • Minify Js – Js file size को कम करता है।

  • Combine Js – js files combined करके HTTP requests Reduce करता है।

  • Combine Js Plus – premium feature

  • Gzip – आपके webpage size को compress करता है।

  • Browser Caching – आपके site पर दुबारा आने वाले visitors के लिए page load times को कम करता है।

  • Disable Emojis – Enable करे।

  • Render Blocking Js – premium feature

  • Google Fonts – premium feature

  • Submit Button पर click करे।


WP Fastest Cache पर कुछ option को आप तब ही enable कर पाएंगे जब आप Wp Fastest Cache Premium Version को Buy करेंगे। ऐसा कोई जरूरी नही है कि आप इसके Premium Version को use करे आप चाहे तो इसके free version का ही use कर सकते है।

Conclusion


आपको मैंने यहाँ पर Wp Fastest Cache से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी है। आशा करता हु आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

आपको यह जानकारी पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।

Google Adsense Kya Hai - Google Adsense in Hindi

August 18, 2019 0
Google Adsense Kya Hai -  Google Adsense in Hindi
Google Adsense के नाम से ही पता चल रहा है कि यह Google की कोई सर्विस है। आप सभी ने Google Adsense के बारे में सुना तो होगा और इसकी थोड़ी बहुत जानकारी तो होगा ही अगर आपके पास Google Adsense के बारे में कोई जानकारी नही है तो यहा पर मैं आपको पूरी जानकारी देने वाला हु तो आप इस post को पूरा पढ़े।

Google Adsense in Hindi


Google Adsense in Hindi (Google Adsense क्या है)


जैसा कि मैंने आप सबको पहले ही बताया यह Google की एक service है जिससे हम Money Earn सकते है। Google की जो भी service होती है वह भरोसेमंद होती है। यह Money Earn करने का बहुत ही अच्छा Platform है।

Google Adsense का उपयोग वही लोग कर सकते है जिसके पास Website औऱ Youtube Channel होगा। यदि आप Adsense के advertise अपने Website या Youtube Channel पर Use करेंगे तो आप Publisher कहलाएंगे और जो Advertise करते है वह Advertiser कहलाएंगे इसके लिए आपको Google Adword पर पैसे देकर आपके Product को Promote करना होगा।

Google Adsense for Website


आप जिस Topic और Keyword को focus करके post लिखेंगे उसी Type के Advertise आपके website पर show होंगे। उदाहरण के लिए आप किसी Gadget के बारे में Post लिखेंगे तो आपके website पर Gadget के ही Advertise show होगा। आपके website पर Text, Banner, Link Ads ही show होंगे।

Google Adsense for Youtube


Youtube पर भी ठीक उसी तरह के Advertise show होगा जिस topic का आपका video होगा पर इसमे Video वाले Advertise आएंगे जैसा Tv Channel पर Advertise आते है।

How does Google Adsense Work (Google Adsense कैसे काम करता हैं)


जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया कि अपने Website और Youtube पर Advertise Use करने वाले को Publisher कहते है ठीक उसी प्रकार जो Advertise करते है Advertiser कहलाते है। क्या आप जानते है Adsense से हमे किस प्रकार पैसे मिलते है तो मैं आपको यहा पर उसकी भी जानकारी देने वाला हु।

जब कोई कंपनी अपने Product को Google Adword पर promote करता है तो उसके लिए वह कुछ money pay करता है और जब Publisher की website पर यह adsvertise show होगा और कोई visitor उस Advertise पर click करता है तो Publisher को उसके Post के keyword के हिसाब से 0.01-16$ तक मिल सकते है। वैसे Google Adsense दो तरीके से पैसे देती है।

Google Adsense Impression


इससे पता लगाया जा सकता है कि आपके website पर कितने visitors ने कितने Advertise को देखा है। यह 1000 view पर 1$ देता है पर यह जरूरी नही की इतना ही पैसे दे आपको यह आपको इससे कम पैसे भी दे सकता है।

Google Adsense Ads Click


यहा advertise पर click होने पर पैसे मिलती है यह India के visitors के per click के 0.01-1$ तक मिलता हैं और U.S, U.K के visitors के per click के 0.06$-0.16$ से भी ज्यादा मिल सकता है।

Conclusion


आपको मैंने यहाँ पर Google Adsense से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी है। आशा करता हु की आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

आपको यह जानकारी पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।

Saturday, August 17, 2019

What is Insurance Hindi - बीमा क्या है और बीमा के बारे में पूरी जानकारी

August 17, 2019 0
What is Insurance Hindi - बीमा क्या है और बीमा के बारे में पूरी जानकारी
What is Insurance बीमा कितने प्रकार के होते है किस प्रकार का बीमा का फायदा किस प्रकार के दुर्घटनाओ में मिलता है इन सबके बारे में पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट में मिल जाएगी।

What is Insurance Hindi


आप सभी ने Insurance शब्द का नाम कही न कही तो सुना ही होगा और आप सभी को Insurance के विषय में जानकारी होंना आवश्यक है। आज में आप सभी से Insurance के बारे में कुछ विशेष जानकारी शेयर करूँगा तो मेरे द्वारा दी गई जानकारी को पूरा पढ़े।

What Is Insurance (बीमा क्या है)


Insurance को हिंदी में बीमा नाम से जाना जाता है। किसी भी बीमा कंपनी से जब हम अपने जीवन या अन्य कोई वस्तु का बीमा करवाते है तो हमारे जीवन या उन वस्तुओ का किसी दुर्घटना में पूरी तरह नष्ट होने या किसी तरह की हानि पहुचने पर एक निश्चित तय की गई राशि हमारे परिवार वाले या उस व्यक्ति को मिलता है जिसने बीमा करवाया है।

आसान शब्दों में कहे तो जिस प्रकार हम कोई भी वस्तु जैसे- Smartphone, Camera खरीदते है तो उन पर Garranty/Warranty होता है जिसमे अगर वह Smartphone खराब हो जाए तो और उस वस्तु की Garranty/Warranty हो तो हमे वह कंपनी उस Smartphone को Repair कर देगी या हमें उस Smartphone को Replace करके उसके स्थान पर नया वैसा ही नया smartphone देगी।

बीमा भी उसी प्रकार का है इसमें हमारे वस्तुयों और जीवन का निर्धारित मूल्य देगी।

Different types of Insurance (बीमा कितने प्रकार के होते है)


बीमा कई प्रकार के होती है पर मैं यहा पर आप सबसे कुछ प्रकार के बीमा के बारे में बतायुंगा जिसका प्रयोग ज्यादा होता है।

Life Insurance (जीवन बीमा)


जब भी कोई व्यक्ति किसी बीमा कंपनी से अपनी जीवन की बीमा करता है तो वह कंपनी यह सुनिश्चित नही करता कि उस व्यक्ति को कुछ होने पर वह उसे पुनर्जीवित कर सके बल्कि बीमा कंपनी उस व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके परिवार को पैसे देता है।

Accident Insurance (दुर्घटना बीमा)


यह बीमा आपके दुर्घटना से होने वाले खर्च से बचाता है यानी मेरे कहने का मतलब यह है कि जब कोई भी व्यक्ति दुर्घटना बीमा करवाता है तो यदि उस व्यक्ति के साथ कोई भी दुर्घटना या हादसा होता है तो इसका खर्च आपको बीमा कंपनी देगी।

Health Insurance (स्वास्थ्य बीमा)


स्वास्थ्य बीमा उस बीमा को कहते है जो बीमारी के खर्च की भरपाई करता है। जब कोई भी व्यक्ति स्वास्थ्य बीमा करवाता है तो यदि उस व्यक्ति के स्वास्थ्य पर कोई बुरा असर पढ़े या कोई भी बीमारी होती है तो इसका खर्च आपको बीमा कंपनी देगी।

Vehicle Insurance (वाहन बीमा)


जब आप अपने वाहन का बीमा करवाते है और उस
वाहन का किसी सड़क दुर्घटना में कोई नुकसान होने पर बीमा कंपनी उस वाहन के नुकसान के अनुसार उसकी भरपाई करते है।

Conclusion


आप सबको मेरे द्वारा दिया गया Insurance से जुड़ी जानकारी पसंद आई होगी।

यदि यह जानकारी पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।