गाँव के खेतों के किनारे भूत प्रेत की घटना घटी Bhoot Ki Kahani

मेरा नाम रमेश है और आज मैं आप सबसे एक सच्ची Bhut Pret की घटना पेश करने जा रहा हु जो मेरे साथ घटित हुआ था कुछ सालों पहले तब मेरा उम्र 20 साल था और मैं उस समय student हुआ करता था। Bhoot Ki Kahani

Gaw Ke Kheto Ke Kinare Ki Bhoot Ki Kahani

मैं एक छोटे से गाँव मे रहता हूं और उस समय मैं अपने Graduation की पढ़ाई करने के लिए college जाया करता था। मेरे गाँव में कोई college नही था इसलिए मुझे अपने गाँव से 2 K.M दूर शहर जाना पड़ता था क्योंकि वही पर एक
कॉलेज था।

मैं जब भी कॉलेज जाता था तब मेरे गाँव के 20 दोस्त मेरे साथ जाया करते थे उस कॉलेज में पढ़ाई करने, जिनमे से 15 लड़के थे और 5 लड़कियां थी और हम सबकी अपनी-अपनी साईकल थी। जब भी हम college जाते थे तो हम अपने गाँव के कच्चे सड़क से जाते थे क्योंकि और कोई दूसरा सड़क तो था नही और उस रास्ते के किनारे खेत थे और हमेशा हमारे गाँव के लोग उस खेत पर काम किया करते थे क्योंकि सबकी अपनी-अपनी खेते थी जो एक ही जगह पर थी।

Read More:

हम सब सुबह 9 बजे घर से निकलते थे college जाने के लिए और दोपहर के 2 बजे तक घर पहुँच जाते थे। College ज्यादा दूर ना होने के वजह से हमे 30 मिनट लगते थे college जाने में और आने में 30 मिनट लगते थे। एक दिन college से मैं थोड़ा जल्दी घर आने के लिए निकल पड़ा वह भी बिना बताए मेरे दोस्तो को क्योंकि मुझे घर पर कुछ जरूरी काम था।

जब मैं अपने गाँव के कच्चे रास्ते से होते हुए आ रहा था तब मुझे खेतो के बीच से एक औरत निकलते हुए दिखी और वह सफेद साड़ी पहने हुए लंबे बालों वाली औरत थी। यह नजारा काफी भयानक था मेरे लिए और मैं क्या करूँ समझ नही पा रहा था तभी मेरे बाकी के वह दोस्त भी पहुँच गए जिनके साथ मैं कॉलेज के लिए आना-जाना करता था।

वह औरत हमारे तरफ बढ़ रही थी और काफी गुस्से में दिख रही थी तभी मेरे सभी दोस्तों ने जोर-जोर से चिल्लाना शूरु कर दिया ‘हमारी कोई मदद करो’ और इन पुकारो को सुनकर सड़क के किनारे खेतों में से 60-80 लोग निकले और दौड़े-दौड़े हमारे पास आए और उस औरत को घेर लिया।

उन 60-80 लोगो में से 20-40 महिलाएं थी सभी ने मिलकर उस डरावनी औरत को पकड़ना चाहा पर उस डरावनी औरत ने सभी महिला को उठा कर पटक दिया और तभी एक महिला ने उस डरावनी औरत के लम्बे बालो को पकड़ा और उन बालो को काट दिया। बाल काटते ही वह महिला जमीन पर गिर गई और गायब हो गई। हम सबने मिलकर इस घटना को आंखों से देखा और यह सब देखकर मेरे तो पसीने छूटने लगे थे।

मैंने अपने सभी दोस्तो को धन्यवाद कहा मेरी मदद करने के लिए, सभी लोग खेती के काम में फिर से जुट गए और हम घर की तरफ बढ़ने लगे। मेरे सभी दोस्त कह रहे थे आज जो घटना हमारे साथ हुआ वह तो कोई Bhoot Ki Ghatna थी तो एक ने कहा वह तो Darawni Chudail थी। लेकिन मेरे सभी दोस्त यह सब देखकर डर गए थे और डरते भी क्यों ना यह सब तो Bhoot Pret का मामला था।

यह घटना काफी लंबे समय पहले मेरे साथ घटित हो चुका था जिसे याद करके डर तो लगता ही है और साथ मे हमारे कॉलेज के मस्ती भरे दिनों की भी याद आह जाती है।

आपको यह कहानी पसंद आए तो अपने दोस्तों के शेयर जरूर करे। Bhoot Ki Kahani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *