चोरी करने वाले भूत के पिटाई की Ghost Story

मेरा नाम सुमित है और आज में आपको एक सच्ची भूत की कहानी बताऊंगा जो मुझे मेरे दादाजी ने बताया था। मेरे दादाजी के साथ यह घटना सच में घटित हो चुका है तो उन्होंने मुझे बताया था इसलिए में आप सब को यह डरावनी कहानी बताऊंगा। Ghost Story

Ghost Story of Beating the Stealing Ghost

यह कहानी तब कि है जब मेरे दादाजी 28 साल के हुआ करते थे। एक रात जब मेरे दादाजी अपने कमरे में सोए हुए थे। उस समय हमारे एरिया में इलेक्ट्रिसिटी नहीं थी इसलिए रूम में एक लैंप जलाया हुआ था जिससे बहुत ही धीमी रोशनी आह रहा था। तभी मेरे दादाजी को लगा कि कोई उनके कमरे में घुस कर कोई कुछ चोरी कर रहा है।

मेरे दादाजी को लगा को कोई चोर है उन्होंने अपना आँखें खोला और चुपके से देखा तोह उन्होंने देखा कि एक छोटा सा बचा एक बड़ा सा चावल का बैग उठा कर ले जा रहा है। यह देख उनको हैरानी हुई फिर वह समझ गए कि यह कोई चोर या बच्चा नहीं यह एक भूत है जो किसी का पालतू है,यह देख मेरे दादाजी आग बबूला हो गए और वहाँ पड़ी एक लाठी लेकर उस भूत को खूब पीटने लगे। पिटाई के कुछ देर बाद वो भूत दादाजी को धकेल कर भाग गया पर मेरे दादाजी को बहुत गुस्सा आह रहा था।

वह चुप-चाप सो गए, फिर दूसरी रात दादाजी पूरी तैयारी के साथ सोए हुए थे यानि लाठी और मछली पकड़ने का जाली लेकर सोए थे। उस रात तोह वो भूत नहीं आया पर 2 दिन बाद वह भूत अपने 5 भूत लेकर आया। दादाजी ने समझदारी से फैसला लिया और उनको पहले मछली पकड़ने वाले जाल को उनके ऊपर फेंक कर पकड़ा फिर उन 5 भूत की लाठी से पिटाई करने लगे। भूत तोह चिल्ला रहे थे और दादाजी उन् भूतो पर लाठी बरसाने लगे और उन आवाजो से बाकी घर वाले भी जाग गए।

घर के लोगो ने भी उन भूतो की पिटाई की और वह भूत जाली तोड़ कर भाग गए। फिर कुछ देर बाद सब सो गए। फिर कुछ दिन तक सही रहा और कुछ समय बाद मेरे दादाजी को बाजार जाना पड़ा वह अपना साइकिल लेकर निकल पड़े। रास्ते पर एक घर के पास उन्होंने उस भूत को फिर देखा और वह एक आदमी से बात कर रहा था की उस घर में आज फिर से जाओ लेकिन आज तुम्हारे साथ एक आत्मा भी जायगी जिससे तुमलोग आज उस आदमी को ख़त्म कर देना।

मेरे दादाजी ने यह सब देखा और बाजार गए वह पर उन्होंने अपने 8 दोस्तों को अपने घर चलने को कहा और उनको सारी बात बताई उसमें से 2 ओझा थे।रात को दादाजी और उनको दोस्तों ने पूरी तैयारी की और रूम के चारो तरफ एक गोल सी लकीर खींच कर कुछ मंत्र पढ़ दिया। कुछ समय बाद एक भूत आया जो बच्चे का जैसा दिख रहा था और उसके साथ एक डरावना आत्मा गया जिसका चेहरा बहुत ही डरावना था। उन भूतो की बस रूम में प्रवेश करते ही पहले तोह खूब कुटाई हुई और उन् सबको मेरे दादाजी के २ ओझा दोस्तों ने अपने मंत्र शक्ति से तवाह कर दिया।

उस रात के बाद आज तक कोई भी भूत या आत्मा से मेरे दादाजी का सामना नहीं हुआ है। यह कहानी एक दम सच है और बहुत ही मज़ेदार भी।

यदि आपको यह भूत की कहानी पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। Ghost Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *